" अल्फ़ाज़ - ज़ो पिरोये मनसा ने "

ज़र्रों में रह गुज़र के चमक छोड़ जाऊँगा ,
आवाज़ अपनी मैं दूर तलक छोड़ जाऊँगा |
खामोशियों की नींद गंवारा नहीं मुझे ,
शीशा हूँ टूट भी गया तो खनक छोड़ जाऊँगा||

...दिल में कसक आज़ भी हैं ||




                            तेरे आलिंगन में धडकनों को मिली थी जन्नत ,
                                                               मेरी साँसो में उसकी सिसक आज भी हैं |
                            अलविदा कहते जो छूए थे तूने लब मेरे ,
                                                         मेरे होंठो पे तेरे होंठो की खिसक आज़ भी हैं ||
                            ख़्वाहिश तो थी लिखने की पूरी किताब तेरे हुस्न के जलवों पे ,
                            पर तेरी बेवफ़ाई ने मेरी कलम को उठने न दिया , 
                                                                     दिल में इसकी कसक आज़ भी हैं ||

|| मनसा ||


जरा इन्हें भी देख लीजिये  >>

8 comments: